दस्तो आज के आर्टिकल में हम जानेगे की Technology क्या है और Technology शुरुआत कैसे हुई, आपने टेक्नालजी के बारे में बहुत कुछ पढ़ा होगा या सुना भी होगा लेकिन आज हम टेक्नालजी के बारे में शुरुआत से जानेगे।

Technology

Technology image

Technology किसी भी तकनीक, कोशल, विधियों और प्रक्रीयाओं का योग है इन सभी से मिलकर बना हुआ है। जिसका उपयोग मनुष्य के द्वारा किया जाता है। वस्तुओं या सेवाओं का उत्पादन या उददेशों की पूर्ति के लिए किया जाता है जैसे की वैज्ञानिक जाँच। Technology तकनीकों, प्रक्रीयाओं और भी इसी तरह का ज्ञान हो सकता है। या इसे मशीनों के जरिये भी एम्बेड किया जा सकता है। मशीनें एक इनपुट लेकर सिस्टम के उपयोग के अनुशार बदलकर फिर एक परिणाम का उत्पादन करके प्रोद्ध्योगिकी को लागू करने को तकनीकी प्रणाली के रूप में संदर्भीत किया जाता है।

Technology का सबसे सरल रूप बुनियादी उपकरणों का विकास और उपयोग करना है। आकार के पत्थर और ओजारों के ऐतिहासिक आविष्कारों के आग की नियंत्रित खोज करने के बाद भोजन के स्रोतों में व्रद्धि हुई। इसे बाद में नवपाषाण क्रांति ने बढ़ाया, और एक क्षेत्र से उपलब्ध जीविका को चोगुना कर दिया। पहिये के आविष्कार ने मनुष्यों को यात्रा करने और अपने पर्यावरण को नियंत्रित करने में मदद की।

प्रिंटिंग प्रेस, टेलीफोन और इंटरनेट सहित ऐतिहासिक समय में विकास का संचार के लिए भोतीक बाधाओं को कम कर दिया और मनुष्यों को वैश्विक स्तर पर स्वतंत्र रूप से बातचीत करने की अनुमति भी दी है।

Technology के कई प्रभाव है इसमें अधिक उन्न्त अर्थवयवस्थाओं आज की वैश्विक अर्थवयवस्था सहित को विकसित करने में मदद की है और एक अवकाश वर्ग के उदय की अनुमति दी है। कई तकनीकी प्रक्रियाएँ के रूप में जानने वाले अवांछित उप- उत्पादों का उत्पादन करती है और पृथ्वी के पर्यावरण की हानि के लिए प्रकृतिक संसाधनो को समाप्त कर देती है। नववीचारों ने हमेशा समाज के मूल्यों को प्रभावित किया है।

Technology के उपयोग पर दार्शनिक बहसे हुई है, इस बात पर असहमति के साथ की क्या प्रोद्ध्योगिकी मानव स्थिति में सुधार करती है या इसे खराब करती है अराजक आदिमवाद और इसी तरह के प्रतिक्रियावादी आंदोलनों ने प्रोद्ध्योगिकी की व्यापकता की आलोचना करते हुए तर्क दिया है कि यह पर्यावरण को नुकसान पहुंचता है और लोगो को अलग कर देता है transhumanism और techno progressivism जैसी विचारधारों के समर्थक निरंतर तकनीकी प्रगति को समाज और मानवीय स्थिति के लिए फायदेमंद मानते है।

जरूर पढ़ें:- Best Part Time Job | स्टूडेंट पार्ट टाइम जॉब से कमाओ (लाखों महिना) 2021

Technology क्या है और इसके उपयोग क्या है

प्रोद्ध्योगिकी (Technology)शब्द का पिछले दो 200 वर्षो में काफी बदल गया है। 20 वी शताब्दी से पहले यह शब्द अंग्रेजी में असमान्य था उसका इस्तेमाल उपयोगी कलाओं के विवरण या अध्ययन के संदर्भ में किया जाता था या तकनीकी शिक्षा कि और संकेत करने के लिए जैसे कि Massachusetts Institute of Technology (Chartered in 1861) में किया गया था।

दूसरी औद्योगिक क्रांति के संबंध में “प्रोद्ध्योगिकी” शब्द 20 वी शताब्दी में प्रमुखता से बढ़ा। 20 वी शताब्दी कि शुरुआत में इस शब्द का अर्थ बदल गया, जब अमेरिकी सामाजिक वैज्ञानिको ने Thorstein Veblen से शुरुआत करते हुए, टेक्निक कि जर्मन अवधारणा से “प्रोद्ध्योगिकी” में विचारों का अनुवाद किया। जर्मन और अन्य यूरोपीय भाषाओं में, तकनीक और तकनीक के बीच का एक अंतर मोजूद है जो अंग्रेजी में अनुपस्थित है, जो आमतोर पर दोनों शब्दो को “प्रोद्ध्योगिकी” के रूप में अनुवादित करता है। 1930 के दशक तक “प्रोद्ध्योगिकी”´का संदर्भ औद्योगिक कलाओं से था।

1937 में अमेरिकी समाजशास्त्री Read bain ने लिखा था कि “प्रोद्ध्योगिकी” ( Technology )में सभी उपकरण मशीने, बर्तन, हथियार, उपकरण, आवास, कपड़े संचार और परिवहन उपकरण और कोशल शामिल है जिनके द्वारा हम उनका उत्पादन और उपयोग करते है आज के विद्वान विशेष रूप से सामाजिक वैज्ञानिको के बीच आम है। वैज्ञानिक और इंजीनियर आमतौर पर प्रोद्ध्योगिकी (Technology ) को लागू विज्ञान के रूप में परिभाषित करना पसंद करते है, न कि उन के रूप में जिन्हें लोग बनाते और उपयोग करते है। हाल ही में विद्वानों ने “तकनीक” के यूरोपीय दार्शनिको से प्रोद्ध्योगिकी के अर्थ को वादय करणों को विभिन्न रूपों में विस्तारित करने के लिए उधार लिया है जैसा कि Foucault’s के स्वय कि प्रोद्योगिकियों पर काम में है।

शब्दकोशों और विद्वानो ने विभिन्न भाषाओं कि पेशकश कि है। Merriam Webster Learner’s Dictionary इस शब्द कि एक परिभाषा प्रदान करता है, “उपयोगी चीजों का आविष्कार करने या समस्याओं को हल करने के लिए उद्योग, इंजीनियरिंग आदि में विज्ञान का उपयोग” और “एक मशीन, उपकरण का टुकड़ा, विधि आदि। प्रोद्योगिकि द्वारा निर्मित है”। Ursula Franklin ने अपने रियल वर्ल्ड ऑफ technology व्याख्यान में अवधारणा कि एक और परिभाषा दी,

यह “अभ्यास है, जिस तरह से हम यहाँ चिजे करते है।” इस शब्द का प्रयोग अक्सर Technology के एक विशिष्ट क्षेत्र को इंगित करने के लिए किया जाता है, या समग्र रूप से प्रोद्योगिकि के बजाय उच्च प्रोद्योगिकि या केवल उपभोक्ता इलेक्ट्रोनिकस को संधर्भित करने के लिए किया जाता है। Technics and Time में Bernard Stiegler ने प्रोद्योगिकि कि दो तरह से परिभाषित किया है “जीवन के आलवा अन्य माध्यमों से जीवन कि खोज” और “संगठित अकार्बनिक पदार्थ” के रूप में ये दो परिभाषा दी है।

प्रोद्योगिकि को सबसे व्यापक रूप में उन संस्थाओं के रूप में परिभाषित किया जा सकता है, जो भोतीक और अभोतीक दोनों है, जो कुछ मूल्य प्राप्त करने के लिए मानसिक और शारीरिक प्रयास के अनुप्रयोग द्वारा बनाई गयी है। इस उपयोग में Technology उन उपकरणों और मशीनों को सदर्भित करती है जिनका उपयोग वास्तविक दुनिया की समस्याओं को हल करने के लिए किया जा सकता है। यह एक दूरगामी शब्द है जिसमें साधारण उपकरण शामिल हो सकते है, जैसे की लकड़ी का चम्मच, अधिक जटिल मशीने आदि।

उपकरण और मशीनों को भोतीक नही हों चाहिए, आभासी Technology जैसे कम्प्युटर सोफ्टवेयरे और व्यावसायिक तरीके, प्रोद्योगिकि की इस परिभाषा के अंतर्गत आते है। W.Brain Arthur प्रोद्योगिकि को उसी तरह व्यापक रूप से परिभाषित करते है जैसे “एक मानवीय उद्देश्य को पूरा करने का एक साधन”।

तकनीक के संग्रह को संदर्भित करने के लिए “प्रोद्योगिकि”´शब्द का भी उपयोग किया जा सकता है। इस संदर्भ मे यह मानव जाती के ज्ञान की वर्तमान स्थिति है। इंच्छाओं को पूरा करने के लिए संसाधनो को सयोंजित किया जाये, इसमें तकनीकी तरीके, कोशल, प्रक्रियाए, तकनीक, उपकरण और कच्चा माल शामिल है।

जब किसी अन्य शब्द जैसे “चिकित्सा प्रोद्योगिकि” या “अन्तरिक्ष प्रोद्योगिकि” के साथ जोड़ा जाता है, तो यह संबन्धित क्षेत्र के ज्ञान और उपकरणों की स्थिति को संदर्भित करता है। “अत्याधुनिक प्रोद्योगिकि” का तात्पर्य किसी भी क्षेत्र में मानवता के लिए उपलब्ध उच्च तकनीक से है। प्रोद्योगिकि को एक जैसी गतिविधि के रूप में देखा जा सकता है जो संस्कृति का निर्माण या परिवर्तन करती है।

इसके अतिरिक्त Technology जीवन के लाभ के लिए गणित, विज्ञान और कला का अनुप्रयोग है जैसा की ज्ञात है। एक आधुनिक उदाहरण संचार प्रोद्योगिकि का उदय है, जिसने मानव संपर्क में बाधाओं को कम किया है ओर इसके परिणामसवरूप नई उपसस्कृति यों को जन्म देने में मदद मिली है साइबर संस्कृति के उदय का आधार इंटरनेट और कम्प्युटर का विकास है। एक सांस्कृतिक गतिविधि के रूप में, Technology विज्ञान और इंजीनियर दोनों से पहले की है, जिसमें से प्रत्येक तकनीक प्रयास के कुछ पहलुओं को ओपचारिक रूप देता है। इस अर्थ में यह कलात्मक प्रयासों से जुड़ा रहता है।

पत्थर और औज़ार

Hominids ने लाखों साल पहले आदिम पत्थर के ओजरों से काम करते थे या उपयोग में लाते थे, लगभग 75,000 साल पहले Pressure Flaking ने बहुत ही आसान तरीके से काम करने का तरीका खोज निकाला था, और धीरे धीरे आसनी से काम करने का तरीका आज पूरे वर्ल्ड में अपनाया जाता है।

आग की खोज

आग की खोज से मानव जाती में एक तकनीकी विकास और महत्वपूर्ण मोड आया था, आग के खोज की सही तारीक ज्ञात नही है, मानव जाती के पालने में सबसे ज्यादा जानवरों का योगदान है जो जानवरों के जले हुए हड्डियों से पता चलता है। आग, लकड़ी और लकड़ी के कोयलों से भरपूर थी, प्रारम्भिक में मनुष्यों को अपना भोजन बनाने की अनुमति दी थी ताकि आग की पहचान क्षमता में वृद्धि हो, इसके पोष्क मूल्यों में सुधार हो, और मनुष्यों के खाये जाने वाले खाद्य पदार्थो में वृद्धि हो।

वस्त्र और आश्रय

पुराने समय में अन्य तकनीकी विकास (Technology) वस्त्र और आश्रय थे। इनकी तकनिकों को सही सही से दिनांकित नही किया जा सकता है लेकिन यह सब कुछ मानवता की प्रगति की कुंजी है। जैसे जैसे मानव जाती अपने पुराने समय को छोड़कर आगे बढ़ी वैसे वैसे मनुष्य और भी विस्तृत होते गये। शुरुआत में मनुष्य जाती अस्थाई थी लेकिन धीरे धीरे मनुष्य ने झोंपड़िया बनाकर रहने लगे और ठंड से बचाने के लिए जानवरों के फर और खाल का उपयोग करते थे।

जरूर पढ़ें:- Zerodha Kite App से Trade कैसे करें | Zerodha से पैसे कमाये- हिन्दी में जाने

धातु उपकरण

मनुष्य में निरंतर सुधारों भट्टी और धोकनी का आविष्कार किया।­­ पहली बार शुद्ध रूप से तांबे, चाँदी और सीसा को गलाने की क्षमता प्रदान की थी। पत्थर और लकड़ी के औजारों से ज्यादा फायदेमंद तांबे के औज़ार होते है ये प्रारम्भिक मनुष्य के लिए जल्दी से स्पष्ट हो गये थे, और देशी तांबे का प्रयोग मनुष्य नवपषान काल की शुरुआत से ही किया गया था।

देसी तांबा ज्यादा मात्र में नही होता है, लेकिन तांबे के अयस्क मिलना काफी समान्य होता है। जब मनुष्य के दवारा धातुओं पर काम किया जाने लगा तब कांस्य और पीतल जैसे मिश्र धातुओं की खोज हुई। स्टील मिश्र धातुओं का उपयोग लगभग 1800 ईसा पूर्व का है।

ब्रह्मांड में कुर्जविल को छ: युगों के इतिहास के रूप में जाना जाता है। ( Technology )

1 भोतीक युग

2 जीवन कल

3 मानव युग

4 प्रोद्धयोगिकी युग

5 क्रत्रिम बुद्धि युग

6 सर्वभोमिक उपनिवेश युग

एक युग से दूसरे युग में जाना अपने आप में एक विलक्षनता है और प्रत्येक युग में समय लगता है जिसका अर्थ है ब्रह्मांड का पूरा इतिहास एक विलक्षण घटना है।

भविष्य के तकनीक

प्रोद्धयोगिकी के सिद्धांत अकसर विज्ञान के आधार पर भविष्य की भविष्यवाणी करते है। 2005 में भविष्यवाणी की थी की प्रोद्धयोगिकी के भविष्य में आ­­नुवंशिकी और क्रांति शामिल होगी। फिल्म और उपन्यासों से इस भविष्यवाणी का पता लगाया की जिसने कई नये आविष्कारों की भविष्यवाणी की है और भविष्य में होने वाली कई घटनाओ की भी भविष्यवाणी की है।

आर्टिफिसियल का इंटेलिजेंट का उपयोग विभिन्न उद्देश्यों की पूर्ति के लिए किया जाता है, जिसमें एक समार्टफोन शामिल है जिसे 2011 में Apple कंपनी दवारा iphone 4s के नाम से मार्केट में उतारा था और आईफोन कंपनी का यह फोन काफी लोगो को पसंद आया था।

कुछ लोगों का मानना है की अगले 10 सालों में मनुष्य नेनोबोट तकनीक की खोज कर लेंगे और कुछ का मानना है की हम इसके आविष्कार से सदियों दूर है यह खोज वैज्ञानिक और चिकित्सा का मार्गदर्शन करेगी जो नई बीमारियों का इलाज और आधुनिक तकनीक का आविष्कार करेगी।

जरूर पढ़ें:- Technology | Video Conferencing, picturephone से जुड़ी सारी जानकारी हिन्दी में जाने

FAQ

Q. टेक्नालजी के बारे में कब लिखा था?

Ans 1937 में Read Bain ने लिखा था।

Q. टेक्नालजी को परिभासित किसने किया था?

Ans W.Brain Arthur ने परिभासित किया था।

Q. काम करने का आसान तरीका कब और किसने खोजा था?

Ans 75,000 साल पहले Pressure Flaking ने खोजा था।

निष्कर्ष:-

दोस्तो आज के आर्टिकल में हमने Technology और मनुष्य के दवारा Technology की कैसे शुरुआत की गयी थी उसके बारे में सारी जानकारी प्राप्त की है अगर आपको आर्टिकल पसंद आया हो तो सोश्ल मीडिया पर शेयर जरूर करे और अपने दोस्तो के साथ भी शेयर जरूर करें ताकि सभी Technology की शुरुआत के बारे में सारी जानकारी प्राप्त कर सके। इसी प्रकार की इंटरेसटिंग जानकारी आपके साथ शेयर करते रहेंगे।

अगर आपको किसी भी प्रकार की टेक्नालजी से संबन्धित जानकारी चाइये तो आप हमें कमेंट बॉक्स में लिखकर भेज सकते है और आपके लिए उसी टेक्नालजी से संबन्धित जानकारी लेकर आउगा।


Prem Singh

नमस्कार दोस्तो, मेरा नाम प्रेम सिंह है। मैं एक हिन्दी ब्लॉगर हूँ और मुझे इंटरनेट पर नयी नयी जानकारी शेयर करना काफी पसंद है। इसलिए मैं आपके साथ इस ब्लॉग पर इंटरनेट, कंप्यूटर, मोबाइल टिप्स ट्रिक्स और ऑनलाइन पैसे कमाने से जुड़ी जानकारी शेयर करता हूँ। अगर आपको मेरी बताई गयी जानकारी पसंद आती है तो आप मुझे मेरे Social Media Account पर भी मुझे Follow कर सकते है।

0 Comments

Leave a Reply

Avatar placeholder

Your email address will not be published. Required fields are marked *