दोस्तो आज के समय में बहुत सारी एसी चिजे है Technology के जरिये बनाई गयी है आज के आर्टिकल में हम कुछ एसी ही चीजों के बारे में बात करेगे, जो हमारे दैनिक जीवन में काम में लाते है। आज के समय में Technology का जमाना आ चुका है, और टेक्नालजी से ही लगभग सभी काम होते है। आज के इस आर्टिकल में हम टेक्नालजी की कुछ एसी ही चीजों के बारे में बात करेंगे।

जो हमारे दैनिक जीवन में काम आती है और आगे भी टेक्नालजी का जमाना आ रहा है इसलिए हमें आगे भी टेक्नालजी की जरूरत पड़ेगी जो हमारे भविष्य में बहुत काम आने वाली है। टेक्नालजी में बहुत सारे टेक्नालजी सिस्टम आ जाते है, जैसे की विडियो टेप रिकॉर्डर, पिक्चरफोन, मॉडर्न डेवलोपमेंट, आईपी- बेस्ड और डेस्कटॉप, विडियोकॉन्फ्रेंसिंग जैसी और भी बहुत सारी टेक्नालजी है जो हमारे दैनिक जीवन और भविष्य में काम आने वाली Technology है।

तो चलिये दोस्तो जानते है की टेक्नालजी की शुरुआत कब हुई और टेक्नालजी का भविष्य में किस प्रकार से हमारा योगदान देती है। आर्टिकल तो पूरा जरूर पढ़ें।

Technology Image

Technology

Technology का मानव जीवन के लिए बहुत महत्व होता है, मानव जीवन के लिए व्यावहारिक उद्देश्यों की पूर्ति के लिए वैज्ञानिक ज्ञान का प्रयोग किया जाता है जैसे की मानव पर्यावरण के परिवर्तन में हेरफेर।

Technology का विषय कई प्रकार का होता है समान्य तोर पर पहले के समय में हाथ से उपकरण बनाए जाते थे जैसे- चीनी मिट्टी के बर्तन, औद्धयोगिक काँच, धातु विज्ञान, खनिज, खुदाई और भी इसी तरह के बहुत सारे काम मनुष्य के दावरा किए जाते थे, लेकिन अब के समय में टेक्नालजी का जमाना आ गया है और सभी काम मनुष्य की जगह मशीनों ने ले ली है और सभी काम मशीनों के जरिये होते है।

Video tape recorder | विडियो टेप रिकॉर्डर

विडियो टेप रिकॉर्डर जिसे विडियो रिकॉर्डर भी कहा जाता है यह इलेक्ट्रोनिक डिवाइस मे औडियो चुम्बकीय टेप से औडियो और विडियो के सिग्नल और रेकॉर्ड को पुनः उत्पन्न करता है। यह लगभग टेलीविजन के द्रशय को रेकॉर्ड करने के लिए प्रयोग में लाया जाता है। जो दर्शको को पुनः प्रसारण के रूप में दिखाया जाता है। इसमें विडियो टेप की इकाईया दो प्रकार की होती है, अनुप्रस्थ ओर पेचदार।

इनका डिज़ाइन शोंकीय तोर पर या घर के लिए डिज़ाइन की गयी पेचदार इकाई होती है। हेलिक्स के रूप में यह तीन चोथाई इंच टेप का ही उपयोग करती है या प्रयोग किया जाता है, इन रेकॉर्ड्स के विभिन्न रूप है इसकी मदद से प्लेबैक किए गए रेकॉर्ड्स से प्रोग्रामों को दुबारा से चला सकते है, लेकिन इसके दावरा यह रेकॉर्ड को मिटा नही सकता है। इसके दावरा रील और कैसेट रिकॉर्डर भी बनाए जाते है।

जरूर पढ़ें:- 5paisa app se paise kaise kamaye- (रोज 1000 कमाए) पैसे कमाने वाला एप | हिन्दी में जाने

David Wilkinson

David Wilkinson जन्म 5 जनवरी 1771 को हुआ था और इनकी म्रत्यु 3 फरवरी 1852 को हो गयी थी, यह एक अमेरिकी आविष्कारक थे।

David Wilkinson एक लोहार का बेटा था, फिर भी उसने 1997 में लोहे और पीतल को मोड़ने के लिए गेज और स्लाइड खराद आ आविष्कार किया था, जो अमेरिकी सरकार के लिए बहुत ही अच्छा साबित हुआ था। रोबर्ट फुलटन ने 16 साल पहले एक स्टीमबोट का निर्माण किया गया था, यह सब अमेरिकी सरकार के लिए बहुत अच्छा साबित हुआ था।

Flow meter | प्रवाह मीटर

प्रवाह मीटर (flow meter) गैस और तरल के वेग को मापा जाता था, इसमें चिकित्सा के साथ- साथ  रासायनिक, इंजीनियरिंग, वैमानिकी और मोसम विज्ञान में भी प्रयोग किया जाता था। पतला ट्यूब जो एक फलो के साथ होता है जो प्रवाह के दर पर निर्भर करता है जो की बहाने वाले तरल पदार्थ दावरा समर्पित होता है। इसमें महत्वपूर्ण औद्योगिक प्रयोग होते है, और इसका उपयोग धमनी रक्त प्रवाह को मापने के लिए भी किया जाता है।

Video Conferencing | विडियो कॉन्फ्रेंसिंग

Video Conferencing वह होता है जिसमें दो या दो से अधिक व्यक्ति भोतीक रूप से अलग अलग स्थानों से चित्रों या विडियो के माध्यम से और ध्वनि या औडियो के माध्यम से जो हम एक दूसरे से बात करते है उसे विडियो कॉन्फ्रेंसिंग कहा जाता है। 11 सितंबर 2001 के तुरंत बाद यात्रा की आशंकाओ और आतंकवादी हमलों के साथ साथ ही बाद के सभी तकनीकी विकास ने Technology videoconferencing के बाज़ार की दिलचस्पी को और भी बढ़ा दिया गया है।

भविष्य में आने वाले समय में विडियो कॉन्फ्रेंसिंग की मांग और भी ज्यादा मात्रा में बढ़ जाएगी, आने वाले समय में सबसे ज्यादा Technology के जरिये ही सारे काम किए जाएंगे जिससे उन्हें अपना समय भी नष्ट नही करना पड़ेगा और उनकी टेक्नालजी भी बढ़ेगी।

Picturephone | पिक्चरफोन

इमेज ट्रांसफर की पहली अवधारणा 1870 के दशक में औडियो के साथ उभरी थी, इसका पहला ओपचारिक प्रयास सयुंक्त राज्य अम्रीका में 1920 के दशक मे शुरू हो गया था, 1930 के दशक में यह यूरोप में जारी रहा। जहां पर टेलीविजन की टेक्नालजी अधिक थी। 1964 तक एक पिक्चर फोन विश्व मेले में अपना पहला सार्वजनिक विडियोकॉन्फ्रेंसिंग पिक्चरफोन पेश करने के लिए तैयार था।

कुछ ही समय बाद विडियोफोन विफल हो गय क्योंकि लोग उस समय में फोन के माध्यम से एक दूसरे को देखकर बात करना नापसंद करते थे, जिस कारण पिक्चरफोन को उस समय में बंद कर दिया गया था।

जरूर पढ़ें:- Flipkart se paise kaise kamaye- पैसे कमाने का तरीका हिन्दी में जाने

Modern Devlopment | आधुनिक विकास

शुरुआती दिनो में विडियोकॉन्फ्रेंसिंग की बहुत ही अच्छी मांग और अच्छी तकनीक वाल खिलौना प्रतीत होता था, विडियोकॉन्फ्रेंसिंग किसी अच्छे कमरे, विशेष रूप से सजाये गए कमरे में $250,000 से $1,000,000 या उससे अधिक की लागत के कमरे में विडियोकॉन्फ्रेंसिंग की जा सकती थी।

चाहे कमरा आधारित हो या पर्सनल कम्प्युटर, मोबाइल डिवाइस किसी पर भी हो परंतु विडियोकॉन्फ्रेंसिंग की यान्त्रिकी समान है। एक संपीड़न मानक जिस अक्सर विडियोकॉन्फ्रेंसिंग का दिल कहा जाता है जो कोडेक हार्डवेयर या सॉफ्टवेअर हो सकता है। जो आउटगोइंग प्रक्रिया या जानकारी को संपीडित करता है, ताकि इसे टेलीफोन के माध्यम से जल्दी और आसानी से भेजा जा सके।

FAQ

Q. ब्रिटिश टेलीकॉम कब बनी थी?

Ans. ब्रिटिश टेलीकॉम 1981 में बनी थी।

Q. वीडियोकांफ्रेंसिंग में पहला औपचारिक प्रयास कहाँ हुआ था?

Ans. वीडियोकांफ्रेंसिंग में पहला औपचारिक प्रयास संयुक्त राज्य अमेरिका में शुरू हुआ।

Q. वीडियोकांफ्रेंसिंग में पहला औपचारिक प्रयास कोनसे दशक में शुरू हुआ था?

Ans. वीडियोकांफ्रेंसिंग में पहला औपचारिक प्रयास 1920 के दशक में शुरू हुआ।

Q. इंटरनेट पर डेस्कटॉप वीडियोकांफ्रेंसिंग का अभ्यास कब शुरू हुआ था?

Ans. इंटरनेट पर डेस्कटॉप वीडियोकांफ्रेंसिंग का अभ्यास 1994 में शुरू हुआ।

Q. वीडियोकांफ्रेंसिंग टूल में परिवर्तित करने के लिए कितने डॉलर का प्रबंध किया गया था?

Ans. वीडियोकांफ्रेंसिंग टूल में परिवर्तित करने के लिए 10,000 डॉलर का प्रबंध किया गया था।

जरूर पढ़ें:-Best Part Time Job | स्टूडेंट पार्ट टाइम जॉब से कमाओ (लाखों महिना) 2021

निष्कर्ष:-

दोस्तो आज के आर्टिकल में हमने वीडियोकांफ्रेंसिंग Technology टूल के बारे में जाना की इसकी शुरुआत कब हुई और आगे भी वीडियोकांफ्रेंसिंग टूल कितना महत्वपूर्ण होगा। आर्टिकल को पूरा जरूर पढ़ें। आपको यह आर्टिकल पसंद आया हो तो अपने दोस्तों के साथ शेयर जरूर करे और सोश्ल मेडिया पर भी शेयर करें ताकि सभी तक यह जानकारी पहुँच सके, और सभी को विडियोकॉन्फ्रेंसिंग Technology के बारे में जान सके। कमेंट में हमें जरूर बताए की यह जानकारी आपको कैसी लगी।


Prem Singh

नमस्कार दोस्तो, मेरा नाम प्रेम सिंह है। मैं एक हिन्दी ब्लॉगर हूँ और मुझे इंटरनेट पर नयी नयी जानकारी शेयर करना काफी पसंद है। इसलिए मैं आपके साथ इस ब्लॉग पर इंटरनेट, कंप्यूटर, मोबाइल टिप्स ट्रिक्स और ऑनलाइन पैसे कमाने से जुड़ी जानकारी शेयर करता हूँ। अगर आपको मेरी बताई गयी जानकारी पसंद आती है तो आप मुझे मेरे Social Media Account पर भी मुझे Follow कर सकते है।

0 Comments

Leave a Reply

Avatar placeholder

Your email address will not be published. Required fields are marked *